समाचार ब्यूरो
19/06/2017  :  10:16 HH:MM
70 स्कूलों में 20 से कम छात्रों पर दो से अधिक शिक्षक
Total View  338

देहरादून उत्तराखंड में प्राथमिक शिक्षा की बदहाली का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि एक ओर जहां पढऩे वाले बच्चों की संख्या घटने के मामले सामने आये हैं वहीं दूसरी ओर बहुत कम बच्चों अथवा छात्रों की संख्या पर दो से ज्यादा अध्यापक हैं। सूत्रों के अनुसार राज्य के अन्दर पिछले करीब डेढ़ दशक में प्राथमिक स्कूलों और मासूम विद्यार्थियों को शिक्षा देने में लापरवाही की गई वह किसी से भी छिपा हुआ नहीं है।
पहाड़ में कई प्राथमिक पाठशालाएं ऐसी हैं जिनमें काफी कम बच्चों पर दो या दो से अधिक अध्यापकों को तैनात किया गया तथा वहां की किसी भी दृष्टि से सरकार और शासन-प्रशासन ने सुध लेना गवारा ही नहीं समझा।हैरानी की बात यह है कि राज्य के अन्दर 77 विद्यालय ऐसे हैं जहां पर 20 से कम छात्र संख्या पर दो से अधिक शिक्षक तैनात हैं।आरटीई 2009 के मानक पर नजर डाली जाए तो प्राथमिक स्कूलों में 60 तक छात्र संख्या वाले स्कूलों में दो शिक्षक रखे जाते हैं, 61 से 90 तक की संख्या पर तीन शिक्षक, 91 से 120 तक पर चार शिक्षक, 121 से 150 पर पांच शिक्षक के साथ ही इससे अधिक की छात्र संख्या पर अधिक शिक्षक तैनात करने के मानक हैं।सरकार ने यह मान लिया है कि इन विद्यालयों में कार्यरत शिक्षकों की पदोन्नति, स्थानान्तरण, सेवानिवृत्ति आदि के कारण विद्यालयवार प्रतिवर्ष छात्रशिक्ष क का अनुपात प्रभावित होता रहता है। सूत्रों के अनुसार राज्य में इन पाठशालाओं की स्थिति ऐसी कही जा सकती है कि मौजूदा व्यवस्था से राज्य सरकार जहां सुधारात्मक कदम उठाने का समय नहीं निकाल पा रही है।हालांकि सूबे की नई सरकार ने इस दिशा में ठोस सकारात्मक कदम उठाने शुरू कर दिये हैं।इस दिशा में सरकार की गंभीरता दिखाई भी दे रही हैं। सरकार कई प्राथमिक स्कूलों को बंद कराकर शेष स्कूलों में ही आवश्यकता के अनुसार गुरूजनों की तैनाती  कराने की दिशा में अपने कदम उठा रही है, ताकि मासूमों की शिक्षा एवं उनके भविष्य पर बेहतर ध्यान दिया जा सके।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   2010828
 
     
Related Links :-
बी.एस.एफ. ने मनाया चौथा ‘अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस’
यूपी में टी-शर्ट पहनकर सीएम योगी ने किया योग, राजनाथ भी रहे मौजूद
योग का प्राचीन विज्ञान भारत का आधुनिक विश्व को अमूल्य उपहार : उपराष्ट्रपति नायडू
योग हमारी प्राचीन जीवन पद्धति है : रमन मलिक
कबीर जयंती 28 को सरकारी तौर पर उत्सव की तरह मनायी जाएगी
मंत्री और आला अधिकारी बताएंगे विभागों की उपलब्धिया
फिर से विश्व गुरू बनने की राह पर है भारत : कविता जैन
बांध सुरक्षा विधेयक के प्रस्ताव को मोदी कैबिनेट से स्वीकृति
कांग्रेस ने की केंद्र सरकार की घेराबंदी
आईटीआई प्रशिक्षण पास आऊट युवाओं से आह्वïान