19/06/2017  :  11:27 HH:MM
पासपोर्ट बनवाने के लिए दूर नहीं जाना होगा
Total View  43

देश में 149 नए डाकघर पासपोर्ट सेवा केंद्र बनाए जाएंगे। हरियाणा के सात जिलों में डाकघर पासपोर्ट सेवा केंद्र खोलने का फैसला किया गया है। भिवानी,कैथल, नारनौल, पानीपत, रोहतक, सोनीपत और यमुनानगर में यह केंद्र खोले जाएंगे। हरियाणा के लिए यह बड़ा तोहफा है। इससे पासपोर्ट बनवाने के लिए क्षेत्रीय नागरिकों को बड़ी सुविधा मिलेगी।

सबसे ज्यादा उत्तरप्रदेश के 19 जिलों में नए डाकघर पासपोर्ट सेवा केंद्र बनाने का प्रस्ताव किया गया है। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने डाकघर पासपोर्ट सेवा केंद्रों के गठन की घोषणा करते हुए कहा है कि पासपोर्ट बनाने में सबसे बड़ी बाधा दूरी को समाप्त करते हुए सरकार ने आने वाले दिनों में हर जिले में 50 किमी की सीमा के अंदर एक केंद्र खोलने का प्रस्ताव किया है। अगर इस सीमा में एक से ज्यादा प्रधान डाकघर या डाकघर होंगे तो ज्यादा आवेदन की संभावना वाले क्षेत्र में केंद्र खोला जाएगा। दिल्ली में कृष्णानगर,लोधी रोड,साकेत में नए केंद्र खोले जाएंगे।

उत्तरप्रदेश में अलीगढ़, अमेठी, आजमगढ़, बहराइच, बलिया, बलरामपुर, बाराबंकी, बस्ती, गोंडा, जौनपुर, कुशीनगर, मऊ, सीतापुर, मुरादाबाद, प्रतापगढ़, रायबरेली, रामपुर, सहारानपुर में नए डाकघर पासपोर्ट सेवा केंद्र बनाने का फैसला किया गया है। पहले चरण में 86 डाकघर पासपोर्ट सेवा केंद्र खोले गए थे। इनमें से 52 शुरु हो गए हैं। शेष केंद्रों का काम चल रहा है। विदेश मंत्री ने बताया कि भाजपा सरकार बनने के पहले देश में 77 पासपोर्ट सेवा केंद्र थे। मोदी सरकार बनने के बाद 16 नए केंद्र बनाने की घोषणा की गई। लेकिन देश भर की जरूरतों को ख्याल में रखते हुए डाकघर के साथ मिलकर पासपोर्ट सेवा केंद्र बनाने का फैसला हुआ। इसके तहत पहले चरण में 86 और अब दूसरे चरण के लिए 149 केंद्रों की घोषणा की गई है। सुषमा ने 149 केंद्र का प्रस्ताव बनाने की पहल के पीछे वजह बताते हुए कहा कि इसके साथ नई सरकार में पासपोर्ट केंद्रों की संख्या 251 हो गई है जो बहुत शुभ संख्या मानी जाती है। पुराने केंद्रों को मिलाकर देश में 328 केंद्र हो जाएंगे। इनमें से 235 डाकघर पासपोर्ट सेवा केंद्र हैं। तीसरे चरण में हर 50 किमी के भीतर केंद्रों का गठन होगा। इसके लिए डाक विभाग से सूची मंगाकर उसकी मैपिंग कराने को कहा गया है। 810 डाकघरों की सूची दी गई है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   6968110
 
     
Related Links :-
चीन: मामला कुछ और ही है
बच्चों पर अनावश्यक दबाव न बनाएं
बिहार : कब ‘पटरी’ पर लौटेगी बाढ़ पीडि़तों की जिंदगी?
अमेरिकी पूंजीपतियों का दम
पर बच्चे तो मरे हैं
जवाबदेही का दायरा बड़ा है
बदलते परिवेश में अब रश्म अदायगी है कजरी गायन!
साइबर खतरे की चेतावनी
नेपाल की तटस्थता
यही है उचित समाधान