हरियाणा मेल ब्यूरो
16/07/2017  :  10:34 HH:MM
हिंदी भाई की कलाई पर नहीं बंधेगी चीनी भाई की बनाई राखी
Total View  12

होशियारपुर चीन के साथ रिश्तों में आई खटास को लेकर इस बार भारतीय ग्राहक उसे सबक सिखाने की तैयारी कर चुका है। भारतीय त्यौहारों में अपना सामान बेचने वाले चीन को इस बार मुंह की खानी पड़ेगी। राखी के त्यौहार पर बाजारों में कई तरह की राखियां आई हैं पर ज्यादातर बाजारों में भारतीय राखी बेची जा रही है।
हिंदू एवं सामाजिक संगठनों के चीनी सामान के विरोध के चलते व्यापारियों ने बहुत कम चीन की राखी लाई है। शहर के घंटाघर चौक के पास राखियां बेचने वाले दुकानदार सुनीश जैन ने बताया कि चीनी राखी अन फीनिशड राखी आती है और यहां आकर राखियों की पैकिंग की जाती है। चाइनीज राखी सिर्फ बच्चों की रही है, जैसे म्यूजिक वाली या टेडीबियर वाली। चीनी राखी ज्यादातर बच्चों की आती हैं। चीनी राखी राखी की कीमत 10 से 100 रुपए तक है और इंडियन राखी की कीमत 10 से 350 रु तक। भारत में राखियों का मेन हब कोलकाता है। यहां पर 80 प्रतिशत राखी कोलकाता में बनती हैं। दुकानदार राजेश कुमार ने बताया कि चीन की आईटमों को लेकर विरोध हो रहा है। ऐसे में उसी माल को लाया है जो बिके ताकि आमदन ठीक रहे। ऊपर से यह भी भय है कि कहीं सोशल संगठन माल को जबरन फेंक दें। इसलिए भारतीय माल को ही तरजीह दी है। राखी भाई-बहन का पवित्र त्यौहार है और इसके लिए भारत में बनी राखी की अपनी अहमियत है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   5334778
 
     
Related Links :-
१४१ साल बाद भी लोगों की सांसों में बसा जिम कार्बेट
राखी पर बहनों का भाइयों को हेलमेट का तोहफा
आज देश के हालात बद से बदतर : अशोक तंवर
मशहूर वैज्ञानिक एवं प्रोफेसर यशपाल का निधन
टंडन ने नवनिर्वाचित राष्ट्रपति कोविंद को दी बधाई
भविष्य में खतरा साबित हो सकता है चीन
कोविंद ने ली राष्ट्रपति पद की शपथ
अंत्योदय भाव से काम करें वकील
जीएसटी के विरोध में विरोध प्रदर्शन
जिला स्टेडियम कमेटियों के बदले गए नाम
 
http://buypropeciaonlinecheap.com/