हरियाणा मेल ब्यूरो
17/07/2017  :  09:04 HH:MM
कवि बाजे भगत के नाम से एक लाख का पुरस्कार : कविता जैन
Total View  18

सूचना, जनसंपर्क एवं भाषा, कला एवं संस्कृति मामले मंत्री कविता जैन ने कहा कि कवि बाजे भगत ने सांग को नैतिक एवं सामाजिक ऊंचाईयों पर पहुंचाने में अहम योगदान दिया है। उन्होंने न सांग को समृद्ध किया, अपितु काव्यात्मक शुद्धता लाने में भी अहम योगदान दिया।

प्रदेश सरकार उनकी विचारधारा को आगे बढाने के लिए वर्तमान वर्ष से कवि बाजे भगत लोकगीत राज्य स्तरीय पुरस्कार में एक लाख रूपए उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले कलाकार को देगी। रविवार को कला एवं संस्कृति मंत्री कविता जैन कवि बाजे भगत की 119वीं जयंती के अवसर पर उनके पैतृक गांव सिसाना के परमवीर चक्र कर्नल होशियार सिंह प्राथमिक विद्यालय परिसर में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यातिथि के तौर पर पहुंची थी। प्रख्यात कवि की स्मृति में बोलते हुए मंत्री कविता जैन ने कहा कि 18वीं तथा 19वीं शताब्दी में सांग कला हरियाणवीं भाषा क्षेत्रों में आमजन मनोरंजन का प्रमुख माध्यम थी। लेकिन इसके सर्वाधिक लोकप्रिय एवं ज्ञात विद्वान
20वीं सदी में हुए। 18वीं सदी में किशन लाल भाट से शुरू हुई सांग परंपरा को कवि हरदेवा के शिष्य एवं सिसाना की धरती पर जन्मे बाजे भगत ने नई ऊंचाईयां प्रदान की। उन्होंने कहा कि बाजे भगत की विचारधारा सांग कला को नैतिक  तथा सामाजिक ऊंचाईयों पर समृद्ध करने की थी, जिसमें वह कामयाब रहे। उन्होंने कहा कि उनकी डेढ दर्जन रचनाएं हरियाणा में कम समय में ही उपलब्धि हासिल कर चुकी थी। उन्होंने घोषणा करते हुए बताया कि सरकार ने कवि बाजे भगत की स्मृति में पुरस्कार राशि को 50 हजार रूपए से बढाकर एक लाख रूपए कर दिया है। इसकी अधिसूचना जारी हो चुकी है और वर्तमान वर्ष से ही सरकार कला क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले कलाकार को सम्मानित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कला एवं संस्कृति को समृद्ध करने तथा कलाकारों को हौंसला बढाते हुए बेहतर वातावरण बनाने के लिए 13 पुरस्कार का मसौदा तैयार कर मुख्यमंत्री के पास भेजा गया है, जिसपर मंजूरी मिलने के बाद ही कलाकारों को लाभ देना शुरू कर दिया जाएगा।

उन्होंने भरोसा दिलाया कि यदि पंचायत जमीन मुहैया कराएगी तो सिसाना में कलाकार बाजे भगत के नाम से पार्क एवं स्मारक का निर्माण कराया जाएगा। उन्होंने कहा कि देश स्वतंत्र होने के बाद से पूर्व सरकारों ने कला सांस्कृति को बचाने के लिए कोई कार्य नहीं किए। क्योंकि किसी भी देश व प्रदेश की प्रगति उसकी कला
एवं संस्कृति पर टिकी रहती है। जिससे भाईचारे को बढ़ावा मिलता है। यही कारण है कि देश पर निरंतर हमलों के बाद भी देश की एकता एवं भाईचारा कायम रहा है। इसी तरह से एकता एवं भाईचारा कायम रहे, इस बात को ध्यान में रखते हुए प्रदेश सरकार ने प्रदेश की कला संस्कृति को उभारने के लिए निरंतर प्रयास किए
जा रहे हैं। प्रदेश सरकार चित्रकला, रंगोली प्रतियोगिता सहित विभिन्न प्रतिभाऐं कराई जा रही है। ताकि प्रदेश की कला संस्कृति को ओर अधिक उभारा जा सके। कार्यक्रम में शिरकत करते हुए सांसद रमेश कौशिक ने कहा कि प्रदेश में भाजपा सरकार ने सत्ता में आने के बाद सोनीपत संसदीय क्षेत्र में 8 नए नेशनल हाई-वे का
निर्माण कार्य किया गया है। जबकि पहले इस तरफ कोई विशेष ध्यान नहीं दिया गया। उन्होंने भरोसा दिलाया कि कवि बाजे भगत के नाम से विशेष पार्क कम स्मारक बनाने की मांग का वह भी समर्थन करते हैं और इसके लिए 10 लाख अभी दिए जाएंगे। इस मौके पर हरियाण कला परिषद के संस्थापक निदेशक रोहतक रामफल चहल पूर्व अध्यक्ष आकाशवाणी रोहतक, एसडीएम राकेश कुमार, औमप्रकाश सैन, सतीस सेहरी, राजबाला सेन, सरपंच राध्येश्याम, सरपंच मुन्नी देवी, ईश्वर सिंह दहिया, दहिया खाप प्रधान सुरेंद्र बानिया, विक्की दहिया , भाजपा नेता प्रीतम खोखर सहित विभिन्न सैकड़ों गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   5411063
 
     
Related Links :-
हमारा रिश्ता किसी से खराब नही
तेजस्वी के साथ राहुल ने किया लंच, राजनीतिक गलियारे में हलचल
मां की पुकार सुन पसीज गया फुटबॉलर से आतंकी बने माजिद का दिल
नवनिर्वाचित उपाध्यक्ष जोगिन्द्र महेश्वरी सम्मानित
‘अपनी जड़ों से जुड़ो ’ प्रोग्राम को हरी झंडी
बच्चों को अच्छे संस्कार देना बहुत आवश्यक : मुख्यमंत्री खट्टर
नूंह जिलावासियों को लगभग 119 करोड़ रुपए की सौगाते
आधार नामांकन का उद्देश्य सामाजिक लाभों से वंचित रखना नहीं है
पूर्व वित्त मंत्री कैह्रश्वटन अजय सिंह यादव का स्वागत
ग्रामीणों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है