समाचार ब्यूरो
17/07/2017  :  09:27 HH:MM
इंडोनेशिया ने विवादित दक्षिण चीन सागर के हिस्से का रखा नया नाम
Total View  337

जकार्ता इंडोनेशिया अब विवादित दक्षिण चीन सागर के उत्तरी हिस्सों में पडऩे वाले अपने विशिष्ट आर्थिक क्षेत्र को उत्तर नतुना सागर कहेगा। इंडोनेशिया ने यह कदम इस समुद्री क्षेत्र में चीन द्वारा क्षेत्र विस्तार की महत्वाकांक्षाओं के प्रतिरोध में उठाया है। जकार्ता में शनिवार को एक संवाददाता सम्मेलन में समुद्री संप्रभुता मामलों के उप मंत्री आरिफ हवास ओएग्रोसेनो ने इस क्षेत्र के बदले हुए नाम के साथ एक नए मानचित्र का अनावरण किया।

यह जानने का मौका देगी कि कहां से गुजर रहे हैं

ओएग्रोसेनो ने इंडोनेशिया सरकारी समाचार एजेंसी अंतरा से कहा, हमें समुद्र के नाम को लगातार अपडेट रखने और सीमाओं के बारे में संयुक्त राष्ट्र संघ को रिपोर्ट करने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा, यह व्यवस्था अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को यह जानने का मौका देगी कि वे किसके क्षेत्र से होकर गुजर रहे हैं। इंडोनेशिया द्वारा नाम में परिवर्तन वाला यह क्षेत्र चीन द्वारा बनाए गए विवादित नाइन डैश लाइन क्षेत्र में पड़ता है। यह चीन के द्वीपीय प्रांत हैनान के दक्षिण और पूर्व के सैंकड़ों मीटर तक फैला हुआ है।

चीन करता है इस क्षेत्र का दावा

चीन इस विवादित समुद्र के पूरे क्षेत्र पर दावा करता है, लेकिन वियतनाम, ताइवान, फिलीपीन्स, ब्रुनेई और मलेशिया सभी अपने अपने समुद्री किनारों के पास वाले हिस्से पर अपना दावा करते हैं। इंडोनेशिया पहला देश नहीं है, जिसने दक्षिण चीन सागर के किसी हिस्से का का दोबारा नाम रखा है। इससे पहले 2011 में फिलीपीन्स ने इस समुद्री क्षेत्र का नाम पश्चिम फिलीपीन्स सागर रखा था और दो वर्ष बाद वह इस क्षेत्र के विवाद को हेग स्थित अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय ले गया था। जुलाई 2016 में, अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय ने इस मामले में फिलीपीन्स के पक्ष में फैसला सुनाया था। न्यायालय ने माना था कि चीन को दक्षिण चीन सागर के हिस्से पर अपना दावा जताने का कोई कानूनी आधार नहीं है। चीन ने इस निर्णय को मजाक बताते हुए उसकी निंदा की थी।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   2586690
 
     
Related Links :-
37 फिलिस्तीनियों की मौत 1600 से ज्यादा घायल
माल्या को एक और झटका: ब्रिटिश कोर्ट ने माल्या को बताया ‘कानून से भगोड़ा’
ईरानी सुरक्षाबलों ने गोलन में इजराइली ठिकानों पर दागी मिसाइले
मानवता के सामने सबसे बड़ा संकट है परमाणु वैज्ञानिकों-आतंकियों के बीच गठजोड़ : हास्पेल
इजरायल ने ट्रंप का किया समर्थन, चीन ने किया विरोध
वुहान में पीएम मोदी और शी के फैसलों को लागू करेगा चीन
मंगल पर न्यूक्लियर रिएक्टर स्थापित करेगी नासा
अगले सप्ताह जापान की यात्रा पर जाएंगे चीनी पीएम ली क्यांग
लीबिया में चुनाव आयोग कार्यालय पर हमला, 16 लोगों की मौत
ट्रंप से मिलने के पहले उत्तर कोरिया ने तीन अमेरिकियों को किया रिहा