हरियाणा मेल ब्यूरो
23/09/2017  :  10:15 HH:MM
‘टेररिस्तान’ न दे दूसरे देशों को सीख : भारत
Total View  155

संयुक्तराष्ट्र भारत ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में पाकिस्तानी प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बानी के कश्मीर पर दिए गए बयान पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा है कि पाकिस्तान ‘टेररिस्तान’ बन चुका है और उसे दूसरों को मानवाधिकारों की सीख देने का अधिकार नहीं है। संयुक्त राष्ट्र महासभा में पाकिस्तानी प्रधानमंत्री के वक्तव्य पर जवाब के अधिकार का इस्तेमाल करते हुए भारत की प्रथम सचिव इनम गंभीर ने महासभा में जम्मू-कश्मीर का मुद्दा उठाने पर पाकिस्तान को आड़े हाथों लिया और कहा है कि उसे यह समझ लेना चाहिए कि जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और हमेशा बना रहेगा।
 पाकिस्तान चाहे सीमा पार से आतंकवाद कितना भी बढ़ा ले लेकिन वह भारत की अखंडता को कमजोर नहीं कर सकता। उन्होंने कहा कि जिस पाकिस्तान की गलियों में आतंकवादी खुले आम घूमते हों, वह भारत को मानवाधिकारों की सुरक्षा का पाठ पढ़ा रहा है। दुनिया ऐसे देश से मानवाधिकारों और लोकतंत्र का पाठ नहीं पढऩा चाहती जो इस संबंध में पहले ही असफल हो चुका है। संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक के 72वें सत्र को कल संबोधित करते हुए पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने भारत पर कश्मीर में मानवाधिकारों का उल्लंघन करने का आरोप लगाया था और इसकी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जांच कराने की मांग की थी। सुश्री गंभीर ने पाकिस्तान को ‘टेररिस्तान’ बताया और कहा कि अपने छोटे से इतिहास में पाकिस्तान आतंक का पर्याय बन चुका है। पाकिस्तान भौगोलिक रूप से ‘टेररिस्तान’ बन चुका है जहां आतंकवाद को सरंक्षण मिलने के साथ ही दूसरे मुल्कों में पांव पसारने का मौका भी मिल रहा है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   9118767
 
     
Related Links :-
फिर गुलजार होने लगा धरती का स्वर्ग
रविशंकर प्रसाद से मिले त्रिवेंद्र सिंह रावत
आईबी और सीबीआई के बराबर हो, हमारा वेतन
रूस, भारत और चीन ने आतंक के खिलाफ हाथ मिलाया
हरियाणा में पार्टी चिन्ह पर लड़े जाएंगे सभी चुनाव
सुप्रीम कोर्ट ने मांगा माल्या पर विदेश मंत्रालय से जवाब
से सामूहिक निर्णय लेना भाजपा की परंपरा रही है : धनखड़
दागी नेताओं के आएंगे बुरे दिन
जानिए कौन हैं सलमान निजामी, जिसके ट्वीट को मोदी ने बनाया मुद्दा
पुलिसकर्मियों की पुरानी मांग होगी पूरी