हरियाणा मेल ब्यूरो
23/09/2017  :  10:22 HH:MM
प्रधानमंत्री मोदी ने एसटीपी का वाराणसी में किया शिलान्यास
Total View  153

नई दिल्ली प्रधानमंत्रीनरेंद्र मोदी ने आज रामना इलाके में एस्सेल इंफ्रा के सीवेज ट्रीटमेंट ह्रश्वलांट (एसटीपी) का शिलान्यास किया। एस्सेल इंफ्रा हाइब्रिड एन्यूटी-पीपीपी मॉडल पर आधारित इस 50 एमएलडी के सीवेज ट्रीटमेंट ह्रश्वलांट का अनुबंध हासिल करने वाला डॉ. सुभाष चंद्र की अगुवाई वाले एस्सेल ग्रुप का एक गर्वीला उद्यम है।

नमामि गंगे कार्यक्रम के तहत मंजूर दो ऐसी परियोजनाओं में से यह सबसे पहली परियोजना है। एस्सेल इंफ्रा को 15 वर्षों की अवधि के लिए सौंपी गई यह परियोजना 18 महीनों में पूरी की जानी है। अपेक्षा की जा रही है कि यह शहर का 5 करोड़ लीटर मल-निस्तारण रोजाना करेगी। मल-निस्तारण के लिए इस परियोजना में कड़े अंतर्राष्ट्रीय गुणवत्ता मानकों के अनुसार विश्वस्तरीय एसबीआर (सिक्वेंसिंग बैच रिएक्टर्स) तकनीक का इस्तेमाल किया जाएगा। वर्तमान में शहर की पूरी गंदगी बिना किसी उपचार-तंत्र से गुजारे हुए सीधे गंगा में ठेल दी जाती है। एस्सेल इंफ्रा लिमिटेड के सीईओ रोहित मोदी ने कहा- माननीय पीएम श्री मोदी की सरपरस्ती में चलने
वाले ‘नमामि गंगे कार्यक्रम’ से जुडक़र हमें गर्व का अनुभव हो रहा है। यह सम्माननीय पीएम की ‘स्वच्छ भारत’ वाली व्यापक दृष्टि से प्रेरित अभियान है, जो मां गंगा की साफ-सफाई के साथ प्रारंभ हुआहै और इसमें हमारा योगदान राष्ट्र-निर्माण की दिशा में उठा एक अकिंचन-सा कदम है।





----------------------------------------------------
----------------------------------------------------
----------------------------------------------------

Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   8350044
 
     
Related Links :-
फिर गुलजार होने लगा धरती का स्वर्ग
रविशंकर प्रसाद से मिले त्रिवेंद्र सिंह रावत
आईबी और सीबीआई के बराबर हो, हमारा वेतन
रूस, भारत और चीन ने आतंक के खिलाफ हाथ मिलाया
हरियाणा में पार्टी चिन्ह पर लड़े जाएंगे सभी चुनाव
सुप्रीम कोर्ट ने मांगा माल्या पर विदेश मंत्रालय से जवाब
से सामूहिक निर्णय लेना भाजपा की परंपरा रही है : धनखड़
दागी नेताओं के आएंगे बुरे दिन
जानिए कौन हैं सलमान निजामी, जिसके ट्वीट को मोदी ने बनाया मुद्दा
पुलिसकर्मियों की पुरानी मांग होगी पूरी