हरियाणा मेल ब्यूरो
30/09/2017  :  10:42 HH:MM
अस्थिरता की गहराई आशंका
Total View  154

इराक के तेल समृद्ध किरकुक इलके में रहने वाले कुर्दों के विशाल बहुमत ने स्वतंत्र दश्े ा के निमाणर्् ा के पक्ष म ें मतदान किया। उस क्षत्र्े ा म ें कर्दु पार्टी का शासन ह,ै जिसन े वहा ं जनमत सगं ह्र आयोजित किया। वोट डालने वाले 33 लाख लोगों में से 92 फ़ीसद ने अलगाव का समर्थन किया।

इराक की सरकार ने इस जनमत संग्रह को अवैध करार दिया था। इराक़ी प्रधानमंत्री हैदर अल-अबादी ने आखिर में जनमत संग्रह के नतीजों का एलान ना करने की अपील की। लेकिन इसे ठुकरा दिया गया। इराकी प्रधानमंत्री ने कुर्दों से कहा कि वो 'संविधान के ढांचे के तहत' इराक़ सरकार से बातचीत करें। लेकिन कुर्द नेताओं का कहना है कि जनमत संग्रह में भारी जीत के बाद अब वे बगदाद में मौजूद सरकार से अलगाव के मुद्दे पर बातचीत करेंगे। बातचीत से हल निकलने की संभावना खत्म होने के बाद इराक की संसद ने एक प्रस्ताव पारित कर सरकार से कहा कि वो किरकुक और कुर्दों के नियंत्रण वाले दूसरे विवादित क्षेत्रों में सेना तैनात करे। इराक सरकार ने चेतावनी दी कि उसे शुक्रवार तक इरबिल और सुलेमानिया हवाई अड्डों का अधिकार नहीं सौंपा गया, तो कुर्दिस्तान क्षेत्र को आने वाली सभी सीधी अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर रोक लगा दी जाएगी। जाहिर है, एक गंभीर टकराव की पृष्ठभूमि तैयार हो गई है। इस घटनाक्रम से तुर्की और ईरान भी परेशान हैं। उनके
यहां कुर्दों की एक बड़ी आबादी रहती है। उनमें भी अलगाववादी भावनाएं रही हैं। आशंका है कि इराक में हुई घटनाओं का असर वहां भी पड़ेगा। कुर्द पश्चिम एशिया में चौथा सबसे बड़ा जातीय समूह हैं, लेकिन उनका कभी कोई अपना राष्ट्र-राज्य नहीं रहा। इराक की आबादी में उनकी हिस्सेदारी 15 से 20 फ़ीसदी है। कुर्द पशमरगा लड़ाकों ने किरकुक पर 2014 में निंयत्रण हासिल किया था, जब पूरे उत्तरी इराक़ में कथित इस्लामिक स्टेट के जिहादी इराक़ी सेना को परास्त करते हुए तेजी से आगे बढ़ रह थे। जनमत संग्रह में 72.61 फ़ीसद लोगों ने हिस्सा लिया। जाहिर है, अब लोकतांत्रिक तर्कों से कुर्दों की अलग देश की मांग का विरोध
करना कठिन होगा। लेि कन इराक इतनी आसानी स े य े मागं नही ं मानगे ा। ना ही तर्कु ी  और ईरान ऐसा होने देंगे। इससे पहले से ही हिंसा-ग्रस्त इस इलाके में और भी ज्यादा अशांति फैल सकती है। इसी आशंका के मद्देनजर अमेरिका और यूरोपीय देशों ने भी जनमत संग्रह का विरोध किया था। लेकिन उनकी मर्जी वहां नहीं चली।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   4196891
 
     
Related Links :-
गंगा स्वच्छता अभियान की झोली में 5 बिलियन डॉलर
अब अपने ऊपर भरोसा
सियांग नदी के प्रदूषण से उभरा चीन का चेहरा!
कांग्रेस के लिए भस्मासुर साबित होते ये नेता
वाणी दोष से पीडि़त हैं मणिशंकर
अयोध्या : अभी मौका है
राहुल गांधी के सर कांटों का ताज
वादा था भूगोल बदलने का; बदला जा रहा है इतिहास......?
चाबहार का रणनीतिक रास्ता
देश में रोजाना सैकडों आत्महत्या क्यों?