हरियाणा मेल ब्यूरो
17/10/2017  :  10:07 HH:MM
मोदी भरे हवा पंचरवाले पहिए मे
Total View  23

पटना विश्वविद्यालय के शताब्दि समारोह में हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अचानक पता नहीं क्या सूझी, उन्होंने घोषणा कर दी कि देश के 20 विश्वविद्यालयों को अगले पांच साल के लिए वे 10 हजार करोड़ रु. देंगे याने इनमें से हर विद्यालय को हर साल 100 करोड़ रु. मिलेंगे। क्यों मिलेंगे ? क्योंकि हमारे प्रधानमंत्रीजी उन्हें विश्व-स्तर का बनाना चाहते हैं। यह छलांग तो अच्छी है लेकिन अभी तो हाल यह है कि भारत का एक भी विश्व विद्यालय विश्व-स्तर का नहीं है।

विद्यालय के पहले विश्व शब्द जुड़ा हुआ है। यह शुद्ध मजाक है। उसे पहले विद्यालय तो बनाइए, फिर उसे विश्वविद्यालय बनाना। हमारे विश्वविद्यालय, विद्यालय कम, नकलालय ज्यादा हैं। उनका काम नकलचियों कीं फौज खड़ी करना है। लार्ड मैकाले के वंशजों की संख्या में वृद्धि करना है। इसी का परिणाम है कि पिछले 70-80
साल में हम दुनिया को एक भी मौलिक दर्शनशास्त्री, अर्थशास्त्री, राजनीतिशास्त्री या समाजशास्त्री नहीं दे सके। जहां तक विज्ञान, चिकित्सा, कानून, गणित जैसे विषयों का सवाल हैं, उनमें भारतीयों ने अपनी प्रतिभा का परिचय तो दिया है, लेकिन क्या किसी विश्वविद्यालय ने नालंदा, तक्षशिला और विमशिला जैसा स्थान दुनिया में पाया है ? नहीं। क्यों ? क्योंकि अंग्रेज के बनाए ढर्रे पर चल रहे हमारे विश्वविद्यालयों को नई दिशा देनेवाला कोई माई का लाल भारत में पैदा ही नहीं हुआ। देश में होनेवाली ज्ञान-विज्ञान की सारी उच्च-शिक्षा और गवेषणा अंग्रेजी में होती है। आज देश में एक भी विश्वविद्यालय ऐसा नहीं है, जहां कानून, मेडिकल, विज्ञान, गणित और अंतरराष्ट्रीय राजनीति की उच्च शिक्षा हिंदी में होती हो। अन्य भारतीय भाषाओं की बात तो जाने ही दीजिए। क्या यह स्थिति शर्मनाक नहीं है ? किसी भी राष्ट्रवादी सरकार के डूब मरने के लिए यह काफी है। अंग्रेजी के वर्चस्व के कारण हमारे विद्वान पश्चिमी देशों की दबैल में आ जाते हैं। नकल करने लगते हैं। उनकी मौलिक चिंतन की शक्ति को लकवा मार जाता है। वे अपने पश्चिमी बौद्धिक मालिकों पर निर्भर हो जाते हैं। उनके फतवे, उनके प्रमाण पत्र, उनकी शोधवृत्तियां, उनकी नौकरियां, उनकी डिगरियां, उनके पुरस्कार, उनकी मान्यताएं ही हमारे बौद्धिकों को शिरोधार्य हो जाते हैं। इन नकलचियों से लदे विश्वविद्यालयों पर 10 हजार करोड़ रु. बर्बाद करके आप क्या पाएंगे ? पहले अपनी शिक्षा-प्रणाली को सुधारिए। मैं जानता हूं कि हमारे नेता इस मामले में पूरे दीवालिए हैं। जरा हाल देखिए, अपने वर्तमान नालंदा विश्वविद्यालय का ? मेरे सुझाव पर बने भोपाल के अटलबिहारी वाजपेयी हिंदी विश्वविद्यालय का ? और वर्धा के गांधी वि.वि. का। शिक्षा पर खर्च बढ़ाने का मैं स्वागत करता हूं लेकिन इस खर्च को हवा में मत उड़ाइए। पहले शिक्षा में मैकाले के किए हुए पंचर को जोडि़ए और फिर शिक्षा के पहिए में हवा भरिए। वरना पंचरवाले पहिए में हवा भरते-भरते आप खुद हवा हो जाएंगे।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   6295553
 
     
Related Links :-
मानसिक प्रदूषण ही पर्यावरण प्रदुषण हैं!
ऐश्वर्ययुक्त जीवन शैली की लालसा त्यागने का लें दृढ़ संकल्प
आतंकवाद पर दंश देता अमेरिका और पाकिस्तान
सकारात्मक सोंच के साथ बदलाव जरूरी
प्रथम सत्याग्रही विनोबा
दिल्ली की हवा पर एनजीटी की तलवार
फारुक अब्दुल्ला की बात पर गौर करें
प्रद्युम्न की हत्या: कुछ सवाल
नोटबंदी और जीएसटी के दर्द को भुलाने आ गई ‘बेनामी’...?
इस्लामी देशों का नेता बनने की तुर्की की चाहत