समाचार ब्यूरो
11/11/2017  :  12:08 HH:MM
प्रद्युम्न की हत्या: कुछ सवाल
Total View  376

गुडग़ांव के रेयान स्कूल में हुई एक बच्चे की हत्या की जो नई परतें अब खुली हैं, वे दिल दहला देनेवाली हैं। प्रद्युम्न नामक छात्र की हत्या के लिए स्कूल बस के कंडक्टर अशोक कुमार को जिम्मेदार ठहराकर गिरफ्तार कर लिया गया। हरियाणा पुलिस ने उसे पीट-पीटकर उससे जुर्म भी कबूल करवा लिया। लेकिन प्रद्युम्न के पिता के आग्रह पर जब केंद्रीय जॉंच ब्यूरो (सीबीआई) को यह मामला सौंपा गया तो मालूम पड़ा कि प्रद्युम्न की हत्या उसी स्कूल के एक वरिष्ठ छात्र ने कर दी थी।
इस छात्र ने स्कूल के अधिकारियों को प्रद्युम्न के शव की खबर सबसे पहले दी थी। सीसीटीवी और चाकू ने सुराग दिया और कथित असली हत्यारा पकड़ा गया। यह सारा मामला इतना अजीब है कि यह देश की पुलिस व्यवस्था, न्याय व्यवस्था, पत्रकारिता और शिक्षा व्यवस्था पर गंभीर प्रश्न-चिन्ह लगा देता है। उस तथाकथित छात्र
हत्यारे के पिता का कहना है कि यदि उसने चाकू से हत्या की होगी तो उसकी कमीज पर खून के दाग तो होने चाहिए थे। ये दाग न तो स्कूल में किसी ने देखे और न ही घर में ! तो क्या सीबीआई की जांच बिल्कुल निराधार है ?

हत्या का कारण भी अजीब है। कहा जा रहा है कि वह लडक़ा पढ़ाई में कमजोर था और वह चाहता था कि उस दिन होनेवाली परीक्षा टल जाए। स्कूल की छुट्टी हो जाए। इसीलिए उसने प्रद्युम्न की हत्या कर दी। परीक्षा टल गई। प्रद्युम्न की जगह कोई भी हो सकता था। यह तथ्य भी हत्या के नए आरोपी ने उगला होगा। अब देखिए, अदालत क्या करती है? बेचारे कंडक्टर पर जेल में क्या गुजर रही होगी ? हमारी पुलिस की करतूतों के कारण सैकड़ों अशोक कुमार जैसे लोग निर्दोष होते हुए भी क्या हमारी जेलों में सड़ नहीं रहे हैं? उनके पास वकीलों के बटुए भरने की ताकत कहां होती है ? अशोक का केस कोई वकील नहीं लड़ेगा, ऐसा संकल्प गुडग़ांव के वकील संघ ने ले लिया था। अब वह क्या करेगा? हमारे पत्रकार भाइयों ने भी गजब ढाया। वे अशोक के पीछे हाथ धोकर पड़ गए। किसी ने खुद खोजबीन करने का कष्ट नहीं उठाया। पुलिस की लापरवाही के कारण खट्टर सरकार भी बदनामी झेल रही है। यहां यह प्रश्न भी उठता है कि इन पब्लिक स्कूलों में कैसी संस्कृति पनप रही है? परीक्षा में पास होना क्या इतनी बड़ी बात है कि उसके लिए हत्या कर दी जाए? छात्रों के माता-पिता से अंधाधुंध फीसें बटोरना, बच्चों का बढ़ता हुआ मानसिक तनाव और ढोंगभरी जीवन-शैली भी इस तरह की जघन्य घटनाओं का कारण बन जाती है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   1741306
 
     
Related Links :-
राजस्थान : माहौल को भुनाने में लगी कांग्रेस
स्वेच्छा से आरक्षण का लाभ छोडऩे की भी पहल हो!
चौथे स्तंभ की ‘अकबर’ शैली
हर्ष और उल्लास का प्रतीक है दशहरा
सजा और सबक
शहादत में भेदभाव नहीं तो फिर नौकरी देने में भेदभाव क्यों ?
जो सवाल छोड़ गए अग्रवाल
लश्कर का खतरनाक एजेंडा
पारदर्शिता के पक्षधर जस्टिस रंजन गोगोइ
धार्मिक मामलों को आपसी सहमति से सुलझाना बेहतर होगा